बहुविकल्पीय प्रश्न इकाई-1 आंकलन एवं मूल्यांकन [Questions 1 to 22]

Posted on

1. आंकलन शिक्षण अधिगम प्रक्रिया का अभिन्न अंग है क्योंकि
(अ) आंकलन से अध्यापक छात्रों के अधिगम को समझते हैं और अपने शिक्षण के
परिपुष्टि भी होती है।
(ब) आंकलन ही एकमात्र तरीका है जो आश्वस्त करता है कि शिक्षकों ने पढ़ाया
और बच्चों ने सीखा
(स) आंकलन के माध्यम से केवल छात्र अपने अंकों की तुलना कर सकते हैं
(द) वर्तमान में शिक्षा में केवल अंक ही महत्वपूर्ण हैं।
उत्तर-(अ)


2. आंकलन मूल्यांकन की कौन-सी प्रक्रिया होती है?
(अ) विस्तृत
(ब) संक्षिप्त
(स) वृहत
(द) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-(ब)


3. आंकलन के प्रकार हैं-
(अ) फॉर्मेटिव आंकलन
(ब) योगात्मक आंकलन
(स) उभयनिष्ठ आंकलन
(द) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-(द)


4. आंकलन की विशेषता है-
(अ) शिक्षक का मूल्यांकन
(ब) शैक्षिक सुधारों में सहायक
(स) अधिगम आवश्यकताओं की जाँच में सहायक
(द) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-(द)


5. आंकलन का क्षेत्र है-
(अ) शैक्षिक उपलब्धियों का पता लगाने में
(ब) वैयक्तिक भिन्नताओं का ज्ञान करने में
(स) स्थान निर्धारित करने में
(द) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-(द)


6. “निर्धारण या आंकलन का आशय उन सभी नीतियों, सिद्धान्तों एवं विधियों
की समीक्षा से है जो कि छात्रों की शैक्षिक एवं सामाजिक आवश्यकताओं के
ज्ञान एवं उनकी पूर्ति के लिए प्रयुक्त होती हैं।” आंकलन की यह परिभाषा दी है-
(अ) टी. रेमण्ट ने
(ब) प्रो. एस.के. दुबे ने
(स) प्रो. एच.एस. शर्मा ने
(द) रवीन्द्रनाथ टैगोर ने।
उत्तर-(ब)


7. अधिगम के लिए आंकलन का प्रमुख सिद्धान्त होता है-
(अ) प्रभावी पृष्ठ पोषण
(ब) छात्र सहभागिता
(स) शिक्षण समायोजन
(द) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-(द)


8. “आंकलन को अधिगम के रूप में प्रस्तुत करने की प्रक्रिया में आकलन ही
अधिगम के समस्त पक्षों का निर्धारण करता है। प्रत्येक बिन्दु पर आंकलन तथा
उसके अनुरूप अधिगम व्यवस्था सम्पन्न होती है। इसमें अधिगम एवं आंकलन
दोनों पृथक् रूप में न होकर एक-दूसरे के पूरक के रूप में होते हैं।” अधिगम
के रूप में आंकलन को इस प्रकार परिभाषित किया है-
(अ) श्रीमती आर.के. शर्मा ने
(ब) प्रो. एस.के. दुवे ने
(स) प्रो. एच.एस. शर्मा ने
(द) मैक्डूगल ने।
उत्तर-(अ)


9. आंकलन का पैमाना है-
(अ) नामित मापन
(स) अन्तराल मापन
(द) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-(द)


10. आंकलन की विशेषताएं:-
(अ) विश्वसनीयता
(स) मानकीकरण
(द) उपर्युक्त सभी।
उत्तर-(द)


11. सीखने के लिए आंकलन निम्नलिखित का ध्यान है सिवाय- (CTET 2012)
(अ) विद्यार्थियों को आवश्यकताएं
(ब) विद्यार्थियों की त्रुटियाँ
(स) विद्यार्थियों को अधिगम शैलियाँ
(द) विद्यार्थियों की क्षमताएँ।
उत्तर-(अ)


12. शिक्षण में अध्यापकों के द्वारा विद्यार्थियों का आंकलन इस अन्तर्दृष्टि को
विकसित करने के लिए किया जाता है- (CTET 2015)
(अ) उन विद्यार्थियों की पहचान करना जिन्हें उच्चतर शिक्षा में प्रोन्नत करना है
(ब) उन विद्यार्थियों को प्रोन्नत न करना जो विद्यालय के स्तर के अनुकूल नहीं
(स) शिक्षार्थियों की आवश्यकता के अनुसार शिक्षण उपागम में परिवर्तन करना
(द) कक्षा में प्रतिभाशाली तथा कमजोर विद्यार्थियों के समूह बनाना.
उत्तर-(स)


13. निम्नलिखित में से कौन-सा आंकलन करने का सर्वाधिक उपयुक्त तरीका है? (CTET 2015)
(अ) आंकलन शिक्षण अधिगम में अन्तर्निहित प्रक्रिया है
(ब) आंकलन एक शैक्षिक सत्र में दो बार करना चाहिए-शुरू में और अन्त में
(स) आंकलन शिक्षक के द्वारा नहीं बल्कि किसी बाह्य एजेन्सी द्वारा कराना चाहिए
(द) आंकलन सत्र की समाप्ति पर करना चाहिए।
उत्तर-(अ)


14. आंकलन शिक्षण अधिगम प्रक्रिया का अभिन्न अंग है क्योंकि- (CTET 2015)
(अ) आज के समय में केवल अंक ही शिक्षा में महत्वपूर्ण हैं
(ब) बच्चों को अंक दिए जाने चाहिए ताकि वह समझ सकें कि अपने सहपाठियों
की तुलना में कहाँ पर है
(स) आंकलन में अध्यापक बच्चों के अधिगम को समझता है और उसके अपने
शिक्षण की परिपुष्टि भी होती है
(द) आंकलन ही एकमात्र तरीका है जो आश्वस्त करता है कि शिक्षकों ने पढ़ाया
और बच्चों ने सीखा।
उत्तर-(स)


15. शिक्षार्थियों की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए समायोजित करता है।
वह कर रहा है। (CTET Sep, 2011)
(अ) सीखने का आंकलन
(ब) सीखने के रूप में आंकलन
(स) सीखने के लिए आंकलन
(द) सीखने के समय आंकलन।
उत्तर-(स)


16. आंकलन- (CTET 2016)
(अ) बच्चों का केवल श्रेणीकरण करने (नाम देने) और उन्हें वर्गीकृत करने की
अच्छी रणनीति है।
(ब) बच्चों में प्रतियोगितात्मक भावना को सक्रिय रूप से बढ़ावा देना है
(स) सीखने को सुनिश्चित करने के लिए तनाव और दबाव को उत्पन्न करना है
(द) सीखने में सुधार का एक तरीका है।
उत्तर-(द)


17. अधिगम में आंकलन किसलिए आवश्यक होता है? (CTET Sep. 2015)
(अ) ग्रेड एवं अंकों के लिए
(ब) जाँच परीक्षण के लिए
(स) प्रेरणा के लिए
(द) पृथक्करण और श्रेणीकरण के उद्देश्य को प्रोत्साहन देने के लिए।
उत्तर-(स)


18. निम्नलिखित में से कौन-सा अधिगम के आंकलन को उजागर करता है? (CTET Sep.2016)
(अ) शिक्षक ‘मानक’ उत्तरों से विद्यार्थियों के उत्तरों की तुलना करके उनका
आंकलन करता है
(ब) शिक्षक विद्यार्थियों की चिन्तन प्रक्रियाओं पर ध्यान देने के अलावा उनकी
अवधारणात्मक समझ का भी आंकलन करता है
(स) शिक्षक पाठ्य-पुस्तकों में दी गई जानकारी के आधार पर विद्यार्थियों का
आंकलन करता है
(द) इनमें से कोई नहीं।
उत्तर-(ब)


19. निम्नलिखित में से कौन एक अन्य विकल्पों से सम्बद्ध नहीं है? (CTET 2014)
(अ) प्रश्नोत्तर सत्रों को संगठित करना
(ब) किसी विषय पर विद्यार्थियों की प्रतिक्रिया को लेना
(स) प्रश्नोत्तरी परिचालित करना
(द) स्व-आंकलन के कौशल को प्रतिमानित करना।
उत्तर-(द)


(20.)क्रिस्टिना अपनी कक्षा को क्षेत्र-भ्रमण पर ले जाती है और वापस आने पर
अपने विद्यार्थियों के साथ भ्रमण पर चर्चा करती है, यह “की ओर
संकेत करता है। (CTET 2013)
(अ) सीखने का आंकलन (ब) सीखने के लिए आंकलन
(स) आंकलन का सीखना
(द) आंकलन के लिए सीखना।
उत्तर-(अ)


21. विद्यालय आधारित आंकलन प्रारम्भ किया गया था ताकि- (CTET 2014)
(अ) सभी विद्यार्थियों के सम्पूर्ण विकास को निश्चित किया जा सके
(ब) विद्यार्थियों की चतुर्मुखी उन्नति के लिए उनकी सभी गतिविधियों के नियमित
अभिलेखन हेतु अध्यापकों को अभिप्रेरित किया जा सके
(स) विद्यालय अपने क्षेत्र में विद्यमान अन्य विभिन्न विद्यालयों की तुलना में
प्रतियोगिता द्वारा अपनी विशिष्टता का प्रदर्शन करने हेतु अभिप्रेरित हो सके
(द) राष्ट्र में विद्यालयी शिक्षा संगठनों की विशिष्टता का विकेन्द्रीकरण किया जा
सके।
उत्तर-(अ)


22. सामाजिक अध्ययन में आंकलन का प्रमुख प्रयोजन है-
(अ) कक्षा शिक्षण में सुधार व कार्य निष्पादन को प्रमाणित करना
(ब) विद्यार्थियों के कार्य निष्पादन को प्रमाणित करना
आपर
(स) परीक्षण पद्धति व पाठ्यक्रम में सुधार करना
(द) कक्षा परीक्षण में सुधार करना।
उत्तर-(अ)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *